- Advertisements -spot_img

Monday, January 24, 2022
spot_img

रूसी मिसाइल को लेकर भारत पर प्रतिबंध नहीं लगाएगा US? रिपब्लिकन पार्टी के सांसद ने बाइडेन प्रशासन से की खास अपील

रूसी मिसाइल एस-400 को लेकर भारत और अमेरिका के बीच मनमुटाव आ सकता है। हालांकि भारत पर प्रतिबंधों को लेकर शायद ही अमेरिका कोई कदम उठाए। अमेरिका ने भारत को स्पष्ट कर दिया है कि वह रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणालियों की खरीद से “निराश” है लेकिन दूसरी तरफ अमेरिकी सांसदों की तरफ से भारत के खिलाफ काउंटरिंग अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सैंक्शंस एक्ट (कात्सा) के तहत प्रतिबंधों में छूट की मांग हो रही है। इन मागों के बीच राष्ट्रपति जो बाइडेन के प्रतिबंध नीति के समन्वयक के उम्मीदवार ने अमेरिकी सांसदों को बताया कि भारत के लिए प्रतिबंधों में छूट की बढ़ती मांग पर निर्णय लेते समय वाशिंगटन “महत्वपूर्ण भू-रणनीतिक विचारों” को ध्यान में रखेगा। 

ट्रंप ने दी थी चेतावनी

अक्टूबर 2018 में, भारत ने तत्कालीन ट्रंप प्रशासन की चेतावनी के बावजूद एस-400 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली की पांच युनिट को खरीदने के लिए रूस के साथ 5 बिलियन अमरीकी डालर के समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। ट्रंप प्रशासन ने चेतावनी दी थी कि अगर भारत रूस के साथ कॉन्ट्रैक्ट आगे बढ़ाता है तो उसे अमेरिकी प्रतिबंधों को झेलना पड़ सकता है।

बाइडेन प्रशासन ने नहीं लिया कोई फैसला

बाइडेन प्रशासन ने अभी तक यह स्पष्ट नहीं किया है कि वह एस-400 मिसाइल सिस्टम की खरीद के लिए काउंटरिंग अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सेंक्शंस एक्ट (सीएएटीएसए) के प्रावधानों के तहत भारत पर प्रतिबंध लगाएगा या नहीं। CAATSA एक सख्त अमेरिकी कानून है जिसे 2017 में लाया गया था और अमेरिकी प्रशासन को रूस से प्रमुख रक्षा हार्डवेयर खरीदने वाले देशों पर प्रतिबंध लगाने के लिए अधिकृत करता है। प्रतिबंध नीति के लिए अमेरिकी विदेश विभाग के समन्वयक के लिए राष्ट्रपति बाइडेन के नामित जेम्स ओ’ब्रायन से बुधवार को सुनवाई में पूछा गया कि क्या तुर्की के साथ अमेरिकी अनुभव ने भारत के साथ आगे बढ़ने के बारे में कोई चेतावनी या सबक सिखाया है। 

तुर्की पर प्रतिबंध लगा चुका है अमेरिकी

अमेरिका पहले ही रूस से S-400 मिसाइल रक्षा प्रणालियों के एक बैच की खरीद के लिए CAATSA के तहत तुर्की पर प्रतिबंध लगा चुका है। S-400 मिसाइल सिस्टम की खरीद को लेकर तुर्की पर अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद, ऐसी आशंकाएं थीं कि वाशिंगटन भारत पर इसी तरह के दंडात्मक उपाय लागू कर सकता है। रूस हथियारों और गोला-बारूद के भारत के प्रमुख आपूर्तिकर्ताओं में से एक रहा है।

भारत और तुर्की- दोनों परिस्थितियां अलग 

सीनेटर टॉड यंग ने विदेश विभाग के एक पूर्व कैरियर कर्मचारी ओ’ब्रायन से सवाल पूछते हुए कहा, “मेरा मानना ​​है कि वे बहुत अलग परिस्थितियां हैं, और निश्चित रूप से, अलग-अलग सुरक्षा साझेदारी – लेकिन आप कैसे मानते हैं कि हमें अपने दोस्तों को मंजूरी देने की संभावना के बारे में सोचना चाहिए, न कि केवल धमकी देने की?” इसके जवाब में, ओ’ब्रायन ने कहा कि दोनों स्थितियों की तुलना करना मुश्किल था, एक नाटो सहयोगी है जो पहले से चली आ रही रक्षा खरीद प्रणालियों को तोड़ रहा है, और दूसरा भारत है, जो बढ़ते महत्व का भागीदार है, लेकिन रूस के साथ उसके पुराने संबंध हैं।

चीन पर निशाना

ओ ब्रायन ने कहा, “प्रशासन ने स्पष्ट कर दिया है कि वह भारत को रूसी उपकरणों के अधिग्रहण के साथ आगे बढ़ने से हतोत्साहित कर रहा है, और महत्वपूर्ण भू-रणनीतिक विचारों को भी ध्यान में रख रहा है, विशेष रूप से चीन के साथ (अस्पष्ट) संबंध को देखते हुए। इसलिए, मुझे लगता है कि हमें यह देखना होगा कि संतुलन क्या है।” ओ ब्रायन ने कहा, “और, निश्चित रूप से, भारत के सामने कुछ निर्णय हैं, इसलिए अधिक कहना जल्दबाजी होगी। लेकिन यह ऐसी चीज है जिसे मैं आपके और अन्य इच्छुक सदस्यों के साथ काम करने के लिए उत्सुक हूं।” रूस से मिसाइल सिस्टम S-400 की खरीद पर नई दिल्ली पर अमेरिकी प्रतिबंधों की संभावना पर आशंकाओं के बीच विदेश मंत्रालय (MEA) ने पिछले साल नवंबर में कहा था कि भारत एक स्वतंत्र विदेश नीति का अनुसरण करता है और इसके रक्षा अधिग्रहण उसके राष्ट्रीय सुरक्षा हितों द्वारा निर्देशित होते हैं।

रिपब्लिकन पार्टी के सांसद ने भारत के खिलाफ कात्सा प्रतिबंध हटाने का समर्थन किया

S-400 को रूस की सबसे उन्नत लंबी दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल रक्षा प्रणाली के रूप में जाना जाता है। सीनेटर यंग ने कहा कि भारत वर्तमान में रूसी एस-400 प्रणाली की डिलीवरी ले रहा है और रूस से नए फ्रिगेट जहाजों को प्राप्त करने की प्रक्रिया में भी है। 

अमेरिका में रिपब्लिकन पार्टी के एक शीर्ष सांसद ने रूस से एस-400 मिसाइल सिस्टम की खरीद के लिए भारत के खिलाफ काउंटरिंग अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सैंक्शंस एक्ट (कात्सा) के तहत प्रतिबंधों में छूट करने का समर्थन करते हुए कहा है कि राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन को ऐसी किसी भी कार्रवाई का विरोध करना चाहिए जो भारत को क्वाड से दूर कर सकता है।

सांसद टॉड यंग ने कहा कि भारत को वर्तमान में रूस एस-400 प्रणाली की आपूर्ति कर रहा है। देश रूस से नए जंगी जहाजों को प्राप्त करने की प्रक्रिया में भी है। उन्होंने बुधवार को प्रतिबंध नीति के लिए विदेश विभाग के संयोजक के पद पर जेम्स ओ’ब्रायन के नाम की पुष्टि को लेकर सुनवाई के दौरान कहा, ‘‘ये दोनों भारतीयों के लिए महत्वपूर्ण प्रणाली हैं।’’

यंग ने कहा, ‘‘चीन के खिलाफ हमारी प्रतिस्पर्धा में भारत एक महत्वपूर्ण सहयोगी है और इसलिए मेरा मानना ​​​​है कि हमें ऐसी किसी भी कार्रवाई का विरोध करना चाहिए जो उन्हें हमसे और क्वाड से दूर कर सकता है। इसलिए हमारे साझा विदेशी नीतिगत हित को देखते हुए मैं भारत के खिलाफ कात्सा प्रतिबंधों में छूट का पुरजोर समर्थन करता हूं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘जैसा कि यहां अधिकांश लोग जानते हैं, भारतीयों के पास पिछले दशकों से बहुत सारी विरासत प्रणालियां हैं और इसके लिए उन्हें रूस की प्रणाली पर निर्भर रहना पड़ता है। भारत चीनी घुसपैठ से अपनी भूमि की रक्षा और हिंद महासागर में चीनी नौसेना के गैरकानूनी दखल को रोकना चाहता है।’’

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
24FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img