- Advertisements -spot_img

Thursday, June 30, 2022
spot_img

‘योगी, मोदी से प्यार करते हैं मुसलमान’ UP सरकार के अकेले मुस्लिम मंत्री दानिश आजाद अंसारी का बयान

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार का हिस्सा बने दानिश आजाद अंसारी का मानना है कि मुस्लिम समुदाय को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम आदित्यनाथ को पसंद करता है। साथ ही उन्होंने कहा कि मुसलमानों को भारतीय जनता पार्टी का काम पसंद है। खास बात है कि अंसारी को मोहसिन रजा के स्थान पर सरकार में शामिल किया गया है। रजा भी पिछली सरकार में एकमात्र मुस्लिम मंत्री थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अंसारी ने कहा, ‘योगी जी और मोदी जी ने मुझे मंत्री की जिम्मेदारी दी है। मैंने युवाओं और समाज के दूसरे सभी वर्गों के सशक्तिकरण और कल्याण के लिए काम किया है।’ इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, मंत्री के तौर पर अंसारी के नाम का चुनाव खास इसलिए भी है, क्योंकि वे मुस्लिम समुदाय से आते हैं। इस समुदाय को सियासी रूप से भाजपा का विरोधी माना जाता है।

एक भाजपा नेता ने कहा, ‘अंसारी ओबीसी मुस्लिम हैं। नए मंत्रालय में उन्हें शामिल कर भाजपा ने मुस्लिम ओबीसी मतदाताओं तक पहुंचने की कोशिश की है।’ इधर, अंसारी कहते हैं, ‘वह राय (सुन्नी मुसलमानों की) बदल गई है। योगी सरकार ने प्रभावी रूप से मुस्लिम समुदाय के सभी वर्गों के लिए काम किया है। राशन, आवास के लिए योजनाओं, आयुष्मान कार्ड ने सभी वर्गों को फायदा पहुंचाया है। मुस्लिम यह समझ चुके हैं और इसलिए भाजपा, योगी और मोदी से प्यार करते हैं।’

संबंधित खबरें

उन्होंने दावा किया कि करीब 10 फीसदी मुस्लिम आबादी ने यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा के लिए वोट दिया था। अंसारी ने पूर्वी, मध्य उत्तर प्रदेश और बुंदेलखंड क्षेत् में मुसलमानों के बीच प्रचार किया था। प्रचार में चुनौतियों को लेकर उन्होंने कहा, ‘आम मुसलमान मेरा विरोध नहीं करते हैं। जो अन्य पार्टियों से जुड़े हुए हैं या उनकी मानसिकता समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी है, वे ही मेरा विरोध करते हैं। आम मुसलमान को भाजपा का काम पसंद है।’

कौन हैं दानिश अंसारी
यूपी बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के महासचिव दानिश राज्य मंत्री की शपथ लेने जा रहे हैं। पिछली सरकार में वे उर्दू भाषा समिति के सदस्य थे। फिलहाल, अंसारी विधानसभा या विधानपरिषद के सदस्य नहीं है। अनुमान लगाया जा रहा है कि भाजपा ने उन्हें विधानपरिषद सदस्यता के लिए नामित कर सकती है। लखनऊ यूनिवर्सिटी से शिक्षा हासिल करने वाले अंसारी 2011 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल हुए थे। संगठन मं वे कई अहम पदों पर रहे और 2018 में भाजपा में शामिल हो गए। बलिया के रहने वाले अंसारी के पिता कि साड़ी की दुकान है और उनकी मां स्कूल प्रिंसिपल हैं। 

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
22FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img