- Advertisements -spot_img

Monday, January 24, 2022
spot_img

ओमिक्रॉन से बचने के लिए करें ये काम, एम्स प्रमुख बोले- घबराएं नहीं, यह एक हल्की बीमारी है लेकिन…

देश में ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के बीच, एम्स के प्रमुख डॉ रणदीप गुलेरिया ने गुरुवार को लोगों से सावधानी बरतने को कहा। उन्होंने कहा कि इस समय उचित मास्किंग, हाथ धोना, भीड़ से बचना और टीकाकरण सहित कोविड ​​उपयुक्त व्यवहार का पालन महत्वपूर्ण है। हालांकि, उन्होंने कहा कि भले ही ओमिक्रॉन वैरिएंट का असर हल्का है लेकिन सभी से सतर्क रहने की जरूरत है। गुलेरिया ने कहा, “घबराएं नहीं, यह एक हल्की बीमारी है, लेकिन सतर्क रहें।” 

ओमिक्रॉन से जल्दी रिकवर हो रहे लोग: गुलेरिया

इससे पहले, डॉ गुलेरिया ने बताया था कि ओमिक्रॉन वैरिएंट मुख्य रूप से फेफड़ों के बजाय ऊपरी सांस लेने की जगहों को प्रभावित करता है – और बिना कॉमरेडिटी वाले लोगों को घबराना नहीं चाहिए और अस्पताल जाने से बचना चाहिए। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए उन्होंने कहा कि प्रभावी होम आइसोलेशन पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए क्योंकि नए वैरिएंट के लिए रिकवरी का समय बहुत तेज है। उन्होंने कहा, “हम यहां जो देख रहे हैं वह बुखार, बहती नाक, गले में खराश और शरीर में बहुत दर्द और सिरदर्द है। यदि इनमें से कोई भी लक्षण बना रहता है, तो उन्हें आगे आना चाहिए और अपना टेस्ट करवाना चाहिए।” 

पिछले साल की तुलना में बेहतर स्थिति में भारत: गुलेरिया

पिछले हफ्ते, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा था कि जीनोमिक सर्विलांस के माध्यम से 1,270 ओमिक्रॉन मामलों का पता चला है, जिनमें से 374 पूरी तरह से ठीक हो गए हैं। भारत के कोविड टास्क फोर्स के सदस्य, डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि अस्पताल के बिस्तर उन लोगों के लिए खाली छोड़े जाने चाहिए जो गंभीर बीमारी की चपेट में हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि नए साल की शुरुआत में देश पिछले जोखिम से इस बार वैक्सीन के चलते बेहतर स्थिति में है।

26 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैला ओमिक्रॉन वैरिएंट 

उन्होंने कहा कि महामारी खत्म नहीं हुई है। गुलेरिया ने कहा कि देश नए कोविड ​​मामलों में वृद्धि देख रहा है और इसलिए अधिक सतर्क रहने का समय है। गुलेरिया के अनुसार, नए वैरिएंट से लड़ने के लिए कोविड-उपयुक्त व्यवहार सबसे शक्तिशाली उपकरण है। डॉ गुलेरिया का बयान ऐसे समय में आया है जब पिछले 24 घंटों में ओमिक्रॉन के 495 ताजा मामले दर्ज किए जाने के बाद देश की कुल टैली बढ़कर 2,630 हो गई, जिसमें महाराष्ट्र और दिल्ली सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने और जानकारी देते हुए कहा कि अब तक 26 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में यह वैरिएंट फैल चुका है।  

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
24FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img