- Advertisements -spot_img

Monday, January 24, 2022
spot_img

ओडिशा: परेशान ग्रामीओं ने विधायक को दिया चकमा, नकली मोबाइल टावर का उद्घाटन करवाने लेकर पहुंचे गांव

ओडिशा के कालाहांडी जिले के लांजीगढ़ से बीजेडी विधायक प्रदीप कुमार दिशारी फरवरी में होने वाले पंचायत चुनावों से पहले बैतीखामन गांव सहित अपने निर्वाचन क्षेत्र में नियमित दौरे करने आए थे। पड़ोसी बांधपारी ग्राम पंचायत के ग्रामीणों ने उनसे अपने गांव में एक मोबाइल टावर का उद्घाटन करने का अनुरोध किया। दिशरी इसके लिए राजी भी हो गए।

जब वह गांव के मैदान में पहुंचे तो उन्हें एहसास हुआ कि उनके साथ धोखा हुआ है। मोबाइल टावर के स्थान पर एक डमी टावर खड़ा था। उसे एक बांस की मदद से तैयार किया गया था, जिस पर ‘बीएसएनएल 4 जी’ लिखा बैनर भी टंगा था। डमी टावर के चारों ओर गुस्साए ग्रामीण खड़े थे, जो कि इलाके में खराब मोबाइल नेटवर्क के बारे में सवाल कर रहे थे। पास में ही टंगे एक अन्य बैनर में लिखा था, “माननीय विधायक प्रदीप कुमार दिशारी द्वारा हमारे नए दूरसंचार टावर का उद्घाटन।”

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ग्रामीणों में से एक तरुना दलपति ने कहा, “राजनेताओं और उनके झूठे वादों के खिलाफ विरोध करने का हमारा तरीका नकली उद्घाटन था। हमने यहां एक मोबाइल टावर के लिए राजनेताओं से कई अनुरोध किए हैं क्योंकि हम सभी, विशेष रूप से बच्चों और बुजुर्गों को मोबाइल कनेक्टिविटी के बिना बहुत परेशानी होती है। हमारे सभी अनुरोध बहरे कानों पर पड़े हैं। चुनाव से पहले राजनेता बहुत सारे वादे लेकर आते हैं लेकिन वह सब भूल जाते हैं। हम अब तक अपने अनुरोधों के साथ बेहद विनम्र रहे हैं, लेकिन इस बार हम चाहते थे कि राजनेता झूठे वादे करने के लिए शर्मिंदा महसूस करें।”

ग्रामीणों का कहना है कि पिछले साल ही उन्होंने विधायक और जिला अधिकारियों को कम से कम चार ज्ञापन सौंपकर अपनी ग्राम पंचायत के लिए मोबाइल टावर लगाने का अनुरोध किया था।

ग्रामीणों का कहना है कि बीएसएनएल नेटवर्क की कनेक्टिविटी इतनी खराब है कि उन्हें पहाड़ी इलाकों से कम से कम 4 किमी की यात्रा करनी पड़ती है। दलपति ने कहा कि ग्रामीणों द्वारा समय पर अस्पताल नहीं ले जाने के कारण हाल ही में एक 27 वर्षीय गर्भवती महिला की मौत हो गई। उन्होंने कहा, “वह बहुत दर्द में थी, आसपास कोई वाहन नहीं था। एंबुलेंस बुलाने के लिए काफी दूर पैदल चलना पड़ा। अगर एम्बुलेंस से समय पर संपर्क कर पाते तो हम उसे बचा सकते थे।”

पिछले साल अक्टूबर में दूरसंचार विभाग (DoT) ने राज्य में बीएसएनएल द्वारा स्थापित किए जाने वाले 4G सुविधाओं के साथ 483 मोबाइल टावरों को मंजूरी दी थी, जिसमें कालाहांडी में छह शामिल हैं। पिछले साल अमित शाह के साथ अपनी बैठक में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बताया था कि ओडिशा में इंटरनेट कनेक्टिविटी के बिना गांवों की संख्या (6278) सबसे अधिक है।

कालाहांडी में बीएसएनएल के एक अधिकारी ने कहा कि टावरों को लगाने का काम अभी भी चल रहा है और एक महीने के भीतर पूरा हो जाएगा। उनमें से एक लांजीगढ़ में आना है, लेकिन बांधपारी ग्राम पंचायत की सेवा के लिए पर्याप्त नहीं है। इस बीच, विधायक दिशारी ने स्वीकार किया कि ग्रामीणों के अनूठे विरोध ने उन्हें आश्चर्यचकित कर दिया।

विधायक ने कहा, “मुझे नहीं पता था कि ग्रामीणों ने इस तरह की कुछ योजना बनाई थी, हालांकि मुझे इस बारे में संदेह था कि यहां एक मोबाइल टावर कैसे आएगा। मैं उनकी शिकायतों को समझता हूं। हमने बार-बार इन क्षेत्रों में दूरसंचार टावर स्थापित करने की मंजूरी मांगी है। केंद्र से मंजूरी मिलनी चाहिए।”

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
24FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img