- Advertisements -spot_img

Tuesday, August 9, 2022
spot_img

BJP ने फडणवीस के साथ ऐसा क्यों किया? उद्धव ठाकरे ने PM मोदी को एकनाथ शिंदे से सतर्क रहने की दी नसीहत

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर इन दिनों अपनी पार्टी शिवसेना पर पकड़ बनाए रखने की चुनाती मुंह बाए खड़ी है। हाल ही में एकनाथ शिंदे की अगुवाई में विधायकों के बागी तेवर के बाद उन्हें सीएम की गद्दी छोड़ने पड़ी थी। इस बीच उन्होंने संजय राउत को पार्टी के मुखपत्र सामना के लिए एक इंटरव्यू दिया है। इसमें उन्होंने कई मुद्दों पर अपना पक्ष रखा है। उन्होंने शिंदे, फडणवीस से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर भी बात की है।

फडणवीस के सीएम नहीं बनने पर उद्धव ठाकरे ने हैरानी जताई है। उन्होंने कहा, ”देवेंद्र फडणवीस के साथ भाजपा ने ऐसा बर्ताव क्यों किया, यह मेरी भी समझ से परे है, पर ठीक है। वह उनकी पार्टी का अंदरूनी मामला है। उनकी पार्टी के पुराने परिचित निष्ठावान, उस वक्त हमारे साथ युति में शामिल अनेक नेता आज भी मेरे संपर्क में हैं। पर वे निष्ठापूर्वक भाजपा के साथ हैं। उनको लेकर मुझे ऐसी गलतफहमी पैदा नहीं करनी है कि उन्हें शिवसेना के साथ आना है। मैं बेवजह ऐसा खोखला दावा करूंगा भी नहीं। लेकिन उन्हें मौजूदा हालात पच नहीं रहे हैं। फिर भी वे निष्ठा से भाजपा के काम कर रहे हैं।”

एकनाथ शिंदे को सीएम बनाने पर उद्धव ठाकरे ने कहा, ”यहां बाहरी लोगों को सब कुछ दिया गया। उनके सिर पर बाहर के लोगों को बिठाया गया। उस समय ऊपरी सदन में विरोधी पक्ष नेता के तौर पर बाहर का व्यक्ति। अब मुख्यमंत्री सहित अन्य पदों पर भी बाहर के ही लोग बिठाए गए हैं, फिर भी वे निष्ठापूर्वक काम कर रहे हैं।”

उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री को चेताया
उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘हर पाप का घड़ा भरता है। कल ये महाशय (एकनाथ शिंदे) खुद को नरेंद्र भाई मोदी समझेंगे और प्रधानमंत्री पद पर दावा करेंगे। भाजपाइयों सावधान!’उद्धव ठाकरे ने आगे कहा, ‘महाविकास आघाड़ी का प्रयोग गलत नहीं था। लोगों ने स्वागत ही किया था। वर्षा छोड़कर जाते समय महाराष्ट्र में अनेकों के आंसू बहे। किस मुख्यमंत्री को ऐसा प्यार मिला है? उन आंसुओं का मोल मैं व्यर्थ नहीं जाने दूंगा।’

कांग्रेस पर नहीं था भरोसा?
फ्लोर टेस्ट के सवाल पर उद्धव ठाकरे ने कहा, ”मुझे लगातार यह महसूस कराया जाता था कि कांग्रेस दगा देगी और पवार साहेब पर तो बिल्कुल भी विश्वास नहीं किया जा सकता है। वे ही आपको गिराएंगे, ऐसा ही सब कहते थे। अजीत पवार के बारे में भी मेरे पास आकर बोलते थे। हालांकि मुझे मेरे ही लोगों ने दगा दिया। फिर सदन में एक व्यक्ति ने भी मेरे विरुद्ध वोट दिया होता तो वह मेरे लिए लज्जास्पद होता।”‘

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
22FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img