- Advertisements -spot_img

Thursday, February 2, 2023
spot_img

गुजरात में नरेंद्र मोदी के मददगार बने योगी आदित्यनाथ, क्या चला पाएंगे यूपी वाला जादू?

गुजरात के चुनावी मैदान में भाजपा पूरी ताकत के साथ उतरी हुई है। एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री लगातार जनसभाएं कर रहे हैं। वहीं यूपी से एक खास टीम गुजरात के रण में भाजपा का मोर्चा संभालने के लिए मैदान में है। इस टीम की अगुवाई खुद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ कर रहे हैं। इस टीम में कुल 160 भाजपा नेता शामिल हैं, जिसमें सांसद से लेकर जिला स्तर के लीडर शामिल हैं। यह यूपी से गुजरात में कैंपेन के लिए पहुंची अब तक की सबसे बड़ी टीम है। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि क्या योगी आदित्यनाथ यहां पर यूपी वाला जादू चला पाएंगे?

बुलडोजर बाबा के नारे
योगी आदित्यनाथ का गुजरात में कैंपेन मोरबी के नजदीक वांकानेर से शुरू हुआ है। यहां लगे बैनरों में योगी आदित्यनाथ को हिंदू हृदय सम्राट बताया गया है। वहीं, रैलियों में मौजूद बुलडोजर बाबा कहकर उनका स्वागत कर रहे हैं। अपनी रैलियों में योगी आदित्यनाथ आक्रामक ढंग से गुजरात मॉडल की बात करते हैं, जबकि हकीकत में वहां पर यूपी मॉडल जैसा माहौल बना रहता है। जहां योगी आदित्यनाथ रैली करने जाते हैं, वहां पर फूलों से सजी जेसीबी लगाई गई है। वहीं, भाषणों के दौरान डबल इंजन सरकार की बातें होती हैं। इसके अलावा भाजपा ने अपने घोषणापत्र में पब्लिक प्रॉपर्टी का नुकसान होने पर यूपी वाला रिकवरी मॉडल लांच करने की बात भी कही है।

इन सीटों पर है फोकस
योगी आदित्यनाथ की रैलियों का फोकस भी खास सीटों पर है। यह वो सीटें हैं, जहां मुस्लिम वोटर्स ज्यादा हैं और भाजपा को पिछले चुनावों में बहुत कम अंतर से हार या जीत का सामना करना पड़ा है। इसके अलावा योगी ने सूरत के वारछा में पाटीदार बाहुल्य वाली सीट के साथ वीरमगाम में हार्दिक पटेल के पक्ष में भी प्रचार किया है। योगी के अलावा यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या भी गुजरात में जमे हुए हैं। केशव गुजरात के उन इलाकों पर फोकस कर रहे हैं, जहां बड़े पैमाने पर हिंदीभाषी अप्रवासी रहते हैं।

हिंदीभाषियों पर फोकस
भाजपा यूपी के नेताओं से उन इलाकों में भी प्रचार करा रही है, जहां यूपी के विभिन्न जिलों से आए लोग रहते हैं। इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक सीतापुर जिले से आए एक सांसद ने यह बात बताई। उन्होंने बताया कि अहमदाबाद में करीब 500 परिवार ऐसे हैं, जो यूपी के सीतापुर से आए हैं। यह लोग यहां पर रंग-रोगन का काम करते हैं। इस सांसद ने कहा कि हम नहीं चाहते कि यहां पर कोई नया प्रतिद्वंद्वी (आम आदमी पार्टी) उभरे। सीतापुर के भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा के अध्यक्ष रामजीवन जायसवाल भी यहां पर आए हुए हैं। उन्होंने कहा कि यूपी से 162 कार्यकर्ता सितंबर से ही यहां पर जुटे हुए हैं। यह लोग चुनाव पूरी तरह से संपन्न होने के बाद ही यहां से जाएंगे।

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
22FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img