- Advertisements -spot_img

Sunday, November 27, 2022
spot_img

कोवैक्सीन को दबाव में 'जल्दी' मिली मंजूरी? जानें क्या बोली सरकार और भारत बायोटेक

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राजनीतिक दबाव के कारण नियामकों द्वारा कोविड-19 के टीके ‘कोवैक्सीन’ को जल्दी मंजूरी दिए जाने संबंधी खबरों को ‘भ्रामक’ और ‘झूठा’ बताकर गुरुवार को सिरे से खारिज कर दिया। सरकार ने कहा कि आपात स्थिति में कोविड-19 टीके के उपयोग की मंजूरी देते हुए तय वैज्ञानिक मानकों और नियमों का पालन किया गया। साथ ही कंपनी ने भी कहा है कि वैक्सीन तैयार करने के लिए बाहरी दबाव नहीं था।

मंत्रालय ने कहा कि मीडिया में ऐसी खबरें आ रही हैं जिनमें दावा किया जा रहा है कि कोविड-19 के स्वदेशी टीके ‘कोवैक्सीन’ का निर्माण करने वाले भारत बायोटेक को राजनीतिक दबाव के कारण ‘कुछ प्रक्रियाओं को छोड़ना पड़ा’ और क्लीनिकल परीक्षण में ‘तेजी’ लानी पड़ी। खबरों में यह भी दावा किया गया है कि टीके के लिए किए गए तीन चरणों के क्लीनिकल परीक्षण में तमाम अनियमितताएं थीं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, ‘मीडिया में आई खबरें पूरी तरह भ्रामक, झूठ और गलत तथ्यों पर आधारित हैं। यह स्पष्ट किया जाता है कि भारत सरकार और राष्ट्रीय नियामक जैसे.. सीडीएससीओ ने आपात स्थिति में कोविड-19 टीके के उपयोग को मंजूरी देने में सभी तय वैज्ञानिक मानकों और नियमों का पालन किया है।’

भारत बायोटेक का पक्ष
भारत बायोटेक ने गुरुवार को कहा कि कंपनी पर टीके को तेजी से विकसित करने के लिए कोई बाहरी दबाव नहीं था। टीका निर्माता कंपनी ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि दुनियाभर में टीके की लाखों खुराकें लगाई जा चुकी हैं और इसने जबरदस्त सुरक्षा का प्रदर्शन किया है तथा इसके प्रतिकूल प्रभाव न्यूनतम रहे। 

विज्ञप्ति में कहा गया है कि टीके के कारण ‘मायोकार्डिटिस’ या  ‘थ्रोम्बोसाइटोपेनिया’ (प्लेटलेस का कम होना) का कोई भी मामला सामने नहीं आया है। ‘कोवैक्सीन’ को मंजूरी को लेकर मीडिया की कुछ खबरों को खारिज करते हुए टीका निर्माता कंपनी ने कहा कि वह चुनिंदा लोगों और समूहों के जरिए सामने रखे गए ‘लक्षित विमर्श’ की निंदा करती है। उसने कहा कि ऐसे लोगों और समूहों की टीका या टीका विज्ञान में कोई विशेषज्ञता नहीं हैं।

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
22FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img