- Advertisements -spot_img

Saturday, January 22, 2022
spot_img

मौर्य के छिटकने से भाजपा के लव-कुश रणनीति में सेंध का डर, आठ मंडलों की दो दर्जन सीटों पर पड़ सकता है प्रभाव

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशमौर्य के छिटकने से भाजपा के लव-कुश रणनीति में सेंध का डर, आठ मंडलों की दो दर्जन सीटों पर पड़ सकता है प्रभाव 

लखनऊ। प्रमुख संवाददाताDinesh Rathour

Tue, 11 Jan 2022 07:11 PM
मौर्य के छिटकने से भाजपा के लव-कुश रणनीति में सेंध का डर, आठ मंडलों की दो दर्जन सीटों पर पड़ सकता है प्रभाव 

इस खबर को सुनें

स्वामी प्रसाद मौर्य के छिटकने से भाजपा के सामने करीब 4.5 फीसदी कोइरी मतों को सहेजने की चुनौती आ गई है। सैनी, शाक्य, कुशवाहा, कोली, मौर्या आदि जातियों के नाम से जाने वाले कोइरी बिरादरी का गढ़ पूर्वांचल है। बुंदेलखंड में भी इस बिरादरी की अच्छी तादाद है। कोइरी बिरादरी को भगवान राम के पुत्र कुश के वंशजों के रूप में जाना जाता है। पिछले करीब दो-तीन दशकों से स्वामी प्रसाद मौर्य राज्य में कोइरी बिरादरी के स्थापित नेता बने हुए हैं। बिरादरी में इनकी पकड़ के कारण ही मायावती ने लंबे समय तक इन्हें अपनी पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाए रखा। सरकार बनने पर महत्वपूर्ण विभाग के मंत्री की जिम्मेदारी भी दी थी। इनके सपा में जाने से पूर्वांचल व बुंदेलखंड में भाजपा की कई सीटों के समीकरण बिगड़ने की आशंका है। अब इसे सहेजने के लिए भाजपा को अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ सकती है। पूर्वांचल के गोरखपुर, बस्ती, वाराणसी, आजमगढ़, वाराणसी, मिर्जापुर, प्रयागराज, अयोध्या मंडल की दो दर्जन से ज्यादा सीटों पर कोइरी बिरादरी निर्णायक भूमिका में रहती है। बुंदेलखंड के बांदा व चित्रकूट और पश्चिम में मेरठ तथा आसपास के जिलों की एक दर्जन से ज्यादा सीटों में इस बिरादरी की बड़ी तादाद है। 

लव के वंशजों को सहेजने की चर्चाएं भी चलीं

बिहार की राजनीति में कुर्मी-कोइरी बिरादरी को लव-कुश वंशजों के रूप में परिभाषित किया जाता है। वहां की राजनीति में इन दोनों बिरादरियों की बड़ी भूमिका होती है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुरू से ही लव-कुश की एकजुटता के साथ आगे बढ़े हैं। यूपी में भी 2017 के चुनाव में भाजपा ने स्वामी प्रसाद मौर्य, अनुप्रिया पटेल आदि को जोड़कर लव-कुश के वंशजों को जोड़ने का काम किया था। अब स्वामी प्रसाद मौर्य के जाने से लव-कुश की एकजुटता पर सवाल खड़े हो गए हैं। राजनीतिक गलियारे में तो चर्चाएं यह भी चलने लगी हैं कि लव के वंशजों यानी कुर्मी बिरादरी के बड़े नेता भी भी सपा के संपर्क में हैं। 

अगला लेख

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
24FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img