- Advertisements -spot_img

Friday, December 2, 2022
spot_img

मऊ के सुंगधित गुड़ की मिठास को जापानियों का इंतजार, हर साल लाखों की होती है बिक्री

मऊ के ‘सुगंधित गुड़’ की मिठास को दो साल से भगवान बुद्ध की उपदेशस्थली आने वाले जापानी सैलानियों का इंतजार है। कोविड काल के बाद से गोंठा गांव आने वाले विदेशी सैलानियों में कमी आ गई है। इससे पहले मऊ आने वाले विदेशी सैलानी हर साल दस लाख से ज्यादा का सुगंधित गुड़ खरीदकर ले जाते थे।  

गोंठा गांव में बनने वाले सुगंधित गुड़ की मिठास के दीवाने भारतीय ही नहीं बल्कि विदेशी भी हैं। भगवान बुद्ध की उपदेशस्थली होने के कारण गोंठा गांव में हर साल जापान, इंडोनेशिया, मलेशिया, थाइलैंड, बैंकाक, म्यांमार, कंबोडिया व सिंगापुर से बड़ी संख्या में विदेशी सैलानी आते थे। विदेशी सैलानियों के बीच सुगंधित गुड़ की जबर्दस्त मांग थी। एक आंकड़े के अनुसार पहले हर साल 50 हजार से अधिक विदेशी पर्यटक आते थे। पिछले दो साल से इनकी संख्या घटने से जहां पर्यटन को नुकसान हो रहा है वहीं गुड़ कारोबारियों को भी लाखों का झटका लगा है।

100 से 200 रुपये किलो में मिलती है गुड़

गोंठा गांव में सप्ताह में दो दिन गुरुवार एवं रविवार को गुड़ की मंडी लगती है। विदेशी सैलानियों का आगमन नहीं होने के कारण बिक्री बुरी तरह प्रभावित है। वर्तमान समय में भेली (गुड़) की कीमत 100 से 200 रुपये प्रति किलोग्राम है।

हर साल लाखों आते हैं पर्यटक

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
22FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img