- Advertisements -spot_img

Wednesday, June 29, 2022
spot_img

भाजपा का नया प्रदेश अध्यक्ष अब कौन होगा? इन ब्राह्मण चेहरों में किसी पर लगा सकती है मुहर

यूपी के सत्ता संग्राम में फतेह पाने वाली भाजपा में अब संगठन के नये सिरमौर को लेकर चर्चाएं जोर पकड़ने लगी हैं। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह सहित मौजूदा संगठन के कई प्रमुख चेहरे सरकार में शामिल हो चुके हैं जबकि पिछले कार्यकाल में टीम योगी का हिस्सा रहे कई दिग्गज अब बाहर हो चुके हैं। पार्टी के अंत:पुर से आने वाली खबरों के हिसाब से प्रदेश अध्यक्ष के पद पर किसी ब्राह्मण चेहरे को लाए जाने की प्रबल संभावनाएं हैं। कई नामों की चर्चा भी शुरू हो चुकी है।

दरअसल, इस बार योगी सरकार से 22 मंत्रियों को बाहर किया गया है। इसमें उपमुख्यमंत्री रहे डा. दिनेश शर्मा, ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा जैसे ब्राह्मण चेहरे भी शामिल हैं। वहीं मिशन-2024 को ध्यान में रखते हुए संगठन को भी खासी तरजीह मिली है। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह को विधानसभा चुनाव में पार्टी की जीत में योगदान के लिए कैबिनेट मंत्री पद से नवाजा गया है। भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बेबीरानी मौर्य अब काबीना मंत्री बन गई हैं। प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह व एके शर्मा, प्रदेश महामंत्री जेपीएस राठौर अब सरकार का हिस्सा बन चुके हैं। ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र कश्यप भी मंत्री बने हैं।

ऐसे में संगठन में नए चेहरों का आना तय है। सबकी निगाहें फिलहाल इस बात पर हैं कि भाजपा का नया प्रदेश अध्यक्ष अब कौन होगा? जहां तक इस पद के लिए संभावित नामों का सवाल है तो ऐसे कई नाम हैं। दिनेश शर्मा हों या श्रीकांत शर्मा दोनों को ही राष्ट्रीय स्तर पर संगठन में काम करने का अनुभव है। प्रदेश अध्यक्ष पद को लेकर इनके अलावा दो सांसदों के नाम हैं। इसमें प्रदेश महामंत्री और कन्नौज के सांसद सुब्रत पाठक तथा बस्ती के सांसद हरीश द्विवेदी शामिल हैं। द्विवेदी के पास फिलहाल बिहार का प्रभार है। संगठन स्तर पर भी कई नाम इस दौड़ में हैं, जिनमें प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक और बृजबहादुर शर्मा के नाम शामिल हैं। इनके पास संगठन का लंबा अनुभव भी है। इन सबके अलावा कोई नया और चौंकाने वाला नाम भी सामने आ सकता है।

संबंधित खबरें

पिछले अनुभव करते हैं इसी ओर इशारा
पिछले कई लोकसभा चुनावों के दौरान के सांगठनिक ढांचे पर नजर डालें तो किसी ब्राह्मण पर दांव लगाने की चर्चाओं को पर्याप्त बल मिलता है। वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव के वक्त भाजपा की कमान केशरीनाथ त्रिपाठी के हाथ थी। 2009 में लोकसभा चुनाव हुए थे। तब प्रदेश भाजपा के कप्तान रमापति राम त्रिपाठी थे। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के वक्त भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी और 2019 में डा. महेंद्रनाथ पांडेय थे।

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
22FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img