- Advertisements -spot_img

Thursday, January 27, 2022
spot_img

पांच लाख से ज्यादा लाभार्थियों को सीएम योगी ने दिया चार करोड़ का लोन, किस्तों के भुगतान को लेकर कही यह बात

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को स्वरोजगार संगम कार्यक्रम के तहत 5,06,995 लाभार्थियों को 4,314 करोड़ रुपये का ऋण वितरित किया। उन्होंने सभी लाभार्थियों से ऋण की किश्तों का समय से भुगतान करने और बैंक से अधिक से अधिक डिजिटल रूप से जुड़ने का आह्वान किया। सीएम ने कहा कि कोरोना काल खण्ड में दूसरे राज्यों से आए 40 लाख श्रमिकों यूपी में ही रोजगार मुहैया कराया गया। आज प्रदेश में 01 करोड़ 61 लाख लोगों को अलग-अलग उद्यमों से जोड़ा गया है। 60 लाख हस्तशिल्पियों, कारीगरों आदि को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना सहित विभिन्न योजनाओं द्वारा स्वरोजगार से जोड़ने का कार्य किया गया है। 

सीएम ने गुरुवार को अपने आवास पर हुए समारोह में ऋण लेने वाले लाभार्थियों से कहा कि आप एक व्यक्ति को नौकरी देते हो, तो वह सिर्फ एक व्यक्ति के लिए नहीं, बल्कि इससे पूरे परिवार का पेट भरता है। उसको देख पूरा गांव उस नवाचार के साथ जुड़ता है। आप सभी प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी की मंशा के अनुरूप जॉब देने वाले की स्थिति में आ चुके हैं। मुख्यमंत्री ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग की ‘माइक्रो, स्मॉल एण्ड मीडियम इण्टरप्राइजेज इम्प्लॉयमेण्ट जेनरेशन सर्वे’ रिपोर्ट का विमोचन किया।

एमएसएमई विभाग के अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि 11 लाख एमएसएमई इकाइयों में कराये गए सर्वेक्षण में इस बात की पता चला कि यहां 27 लाख लोगों को रोज़गार प्राप्त हुआ है। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री  का सपना हर हाथ को काम देना है। उन्होंने कहा कि एम0एस0एम0ई0 के माध्यम से बड़ी संख्या में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से लोगों को रोजगार प्राप्त हुए हैं।  ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के अंतर्गत प्रशिक्षित 75,000 परंपरागत कारीगरों को निःशुल्क टूलकिट भी मिला तो योगी सरकार की महत्वपूर्ण योजना ‘एक जनपद, एक उत्पाद योजना’ के 10,000 प्रशिक्षण प्राप्त हस्तशिल्पियों को भी टूलकिट भी दिया गया। 

सीएम ने लाभार्थियों से वर्चुअली बात की

मुख्यमंत्री ने सभी के व्यवसाय की स्थिति, आर्थिक स्थिति परिवार आदि के बारे में जानकारी ली। सिद्धार्थ नगर में सर्जिकल बैंड निर्माण का कारोबार करने वाली शीला, मुरादाबाद में मेटल हैंडीक्राफ्ट सजावटी सामान बनाने वाली अनीशा बंसल, वाराणसी में मेटल शीट कटिंग का काम करने वाले स्पर्श अग्रहरि, कानपुर देहात में हलवाई का काम करने वाले दिनेश अवस्थी, सहारनपुर में लकड़ी के फर्नीचर का निर्माण करने वाले इस्तखार से बातचीत की। वहीं गोरखपुर के टेराकोटा शिल्पकार अखिलेश चंद्र ने सीएम को बताया कि उन्होंने 6-8 लोगों को रोजगार भी दिया है और सालाना दो-ढाई लाख रुपये बचत कर लेते हैं।  मथुरा में ठाकुर जी की पोशाक तैयार करने वाली कंचन ने हर दिन 1100-1200 रुपये की आमदनी होने की जानकारी दी। 

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
24FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img