- Advertisements -spot_img

Thursday, January 27, 2022
spot_img

पहली बार कोतवाल की वर्दी में दिखे काशी के काल भैरव, मोदी-योगी भी हैं बाबा के भक्त

काशी के कोतवाल कहे जाने वाले काल भैरव ने इतिहास में पहली बार असल में कोतवाल की वर्दी पहनी। कोतवाल की वर्दी पहने काल भैरव की तस्वीरें सोशल मीडिया पर भी तेजी से वायरल हो रही हैं। वाराणसी आने वाला हर अधिकारी पद ग्रहण करने से पहले काल भैरव के मंदिर में जरूर हाजिरी लगाता है। 

प्रधानमंत्री मोदी और सीएम योगी भी काल भैरव के भक्त हैं। पीएम-सीएम कई बार काल भैरव के मंदिर में मत्था टेकने पहुंच चुके हैं। पिछले महीने विश्वनाथ धाम का लोकार्पण करने से पहुंचे पीएम मोदी ने सबसे पहले काल भैरव के यहां हाजिरी लगाई थी और उनसे इजाजत लेने के बाद विश्वनाथ मंदिर पहुंचे थे। सीएम योगी पिछले ही हफ्ते यहां पहुंचे और पीएम मोदी की दीर्घायु के लिए कामना और अनुष्ठान किया था।

थानेदार की कुर्सी पर भी बाबा काल भैरव

बनारस की सकरी गलियों में स्थित काल भैरव मंदिर की आस्था अलग ही किस्म की है। इलाके के थाने में ऑफिसर की कुर्सी पर भी काल भैरव ही विराजते हैं। थानेदार की कुर्सी पर काल भैरव की तस्वीर रखकर अधिकारी उसके बगल में कुर्सी लगाकर बैठते हैं। थाने की जिम्मा काल भैरव के हाथों में होने के कारण कभी इस पुलिस स्टेशन का निरीक्षण किसी अधिकारी ने नहीं किया। यहां से जुड़ी कई परंपरा सालों से चली आ रही है। यहां कोई भी थानेदार जब नियुक्त होता है तो वो अपनी कुर्सी पर नहीं बैठता। कोतवाल की कुर्सी पर हमेशा काशी के कोतवाल बाबा काल भैरव विराजते हैं।

काशी का लेखा-जोखा भैरव के ही जिम्मे

क्राइम कंट्रोल के साथ-साथ सामाजिक मेल-मिलाप, आने-जाने वालों पर बाबा खुद नजर बनाए रखते हैं। वो शहर के रक्षक हैं। इसीलिए इन्हें काशी का कोतवाल कहा जाता है। बाबा की पूजा के बाद ही यहां तैनात कोई पुलिसकर्मी काम शुरू करता है। ऐसा माना जाता है कि बाबा विश्वनाथ ने पूरी काशी नगरी का लेखा-जोखा का जिम्मा काल भैरव बाबा को सौंप रखा है। शहर में बिना काल भैरव की इजाजत के कोई भी प्रवेश नहीं कर सकता। शहर की सुरक्षा के लिए थानेदार की कुर्सी पर बाबा काल भैरव को विराजा गया है। इस परंपरा की शुरुआत कब और किसने की, ये कोई नहीं जानता। लेकिन माना जाता है कि अंग्रेजों के समय से ही ये परंपरा चली आ रही है।

बाजीराव पेशवा ने कराया था जीर्णोद्वार

साल 1715 में बाजीराव पेशवा ने काल भैरव मंदिर का जीर्णोद्वार करवाया था। वास्तुशास्त्र के अनुसार बना यह मंदिर आज तक वैसा ही है। काल भैरव मंदिर में रोजाना 4 बार आरती होती है। रात की शयन आरती सबसे प्रमुख है। आरती से पहले बाबा को स्नान कराकर उनका श्रृंगार किया जाता है। मगर उस दौरान पुजारी के अलावा मंदिर के अंदर किसी को जाने की इजाजत नहीं होती। बाबा को सरसों का तेल चढ़ता है। एक अखंड दीप हमेशा जलता रहता है।

कोतवाल की वर्दी के साथ अर्जी भी लगाई 

शुक्रवार को बाबा को मुखौटा लगाया गया। उन्हें पुलिसिया टोपी के साथ खाकी वर्दी धारण कराई गई। बाकायदा उनका नेमप्लेट लगाया गया। उनके आगे मेज रखी गई जिसपर रजिस्टर और कलम भी थी। फिर बाबा ने कोतवाल स्वरूप में जनसुनवाई की। पहली अर्जी महंत पं. शिवप्रसाद पांडेय ने लगाई। दूसरी अर्जी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से लगाई गई। तीसरी अर्जी काशी के नागरिकों की ओर से थी। तीनों ही अर्जियों में एक ही गुहार की गई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कुदृष्टि डालने वालों को सजा दी जाए। यह कामना भी की गई कि प्रधानमंत्री की अदृश्य सुरक्षा और पुख्ता की जाए। 

महंत को हुआ स्वप्न

महंत पं. शिवप्रसाद पांडेय लिंगिया महाराज ने बताया कि कुछ दिनों पूर्व उन्होंने स्वप्न देखा था कि बाबा कालभैरव कोतवाल के रूप में दरबार लगाए बैठे हैं। वर्दी धारण किए हुए बाबा को स्वप्न में देखने के बाद से ही मेरी इच्छा थी कि उनका कोतवाल के रूप में शृंगार करूं। कालभैरव मंदिर में अपनी पारी अपने पर मैंने बाबा का इस रूप में शृंगार किया।

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
24FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img