- Advertisements -spot_img

Tuesday, August 9, 2022
spot_img

ताजमहल पर आतंकी हमले का हाईअलर्ट, बढ़ी सुरक्षा, अत्याधुनिक हथियारों से लैस कमांडो तैनात

ताजमहल पर आतंकी हमला कर सकते हैं। इसको लेकर खुफिया एजेंसियों ने हाईअलर्ट जारी किया है। सुरक्षा की दृष्टि से कमांडो भी तैनात कर दिए गए हैं। सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाल रहे सीआईएसएफ के सामने पहली बार इस तरह की परिस्थितियों से निपटने की बड़ी चुनौती होगी। कारण, अमृत महोत्सव के चलते 15 अगस्त तक ताजमहल में सैलानियों का प्रवेश नि:शुल्क कर दिया गया है ऐसे में बड़ी संख्या में पर्यटकों के स्मारक का दीदार करने आने की संभावना है। मुख्य गुबंद पर भीड़ को रोकने के लिए अलग से क्यू मैनेजर भी तैनात किए गए हैं। 

खुफिया एजेंसियों द्वारा जारी किए गए अलर्ट को देखते हुए इस बार ताजमहल पर सुरक्षा व्यवस्था दोगुनी कर दी गई है। दो शिफ्टों में सीआईएसएफ जवानों द्वारा की जाने वाली सुरक्षा में पहले 100 जवान तैनात किए जाने थे। इस बार ताजमहल में एंट्री फ्री होने के कारण जवानों की संख्या 180 कर दी गई है। साथ ही अत्याधुनिक शस्त्रों से लैस 36 कमांडो को अलग से तैनात किया गया है। ये कमांडो ताजमहल के कुछ खास प्वाइंटों पर तैनात रहकर सैलानियों की गतिविधियों की निगहबानी करेंगे। स्निफर डॉग के माध्यम से पूरे परिसर में सुबह और शाम चेकिंग कराई जाएगी। बम निरोधक दस्ते द्वारा भी लगातार चेकिंग कराए जाने का निर्णय लिया गया है। 

सीआईएसएफ के उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक नाइट विजन कैमरे के माध्यम से भी ताजमहल से ही आसपास के क्षेत्रों की निगरानी कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि अभी तक मुख्य गुंबद पर अलग से 200 रुपये का टिकट लगने के कारण आम सैलानी वहां तक नहीं जाता था। इससे मुख्य गुबंद पर जाने वाले पर्यटकों की संख्या भी प्रतिदिन लगभग डेढ़ से दो हजार ही रहती थी, लेकिन अब ताजमहल में 15 अगस्त तक प्रवेश नि:शुल्क कर दिए जाने के कारण सभी सैलानी मुख्य गुंबद पर जाकर शाहजहां, मुमताज की कब्रों का दीदार करने जाएंगे। ऐसे में सीआईएसएफ के पास दोहरी जिम्मेदारी आ गई है। इसको देखते हुए क्यू मैनेजर तैनात किए गए हैं। अभी तक मुख्य गुंबद पर जाने वाले सैलानियों की चमेली फर्श पर ही एएसआई द्वारा चेकिंग होती थी, लेकिन अब कोई चेकिंग नहीं हो रही है। सीआईएसएफ ही इसकी जिम्मेदारी स्वयं निभाएगी।  

पुरुष सैलानी बाहर रखेंगे बैग
15 अगस्त तक ज्यादा भीड़ आने की संभावना को देखते हुए सीआईएसएफ ने पुरुष सैलानियों के बैग आदि को स्मारक परिसर से बाहर एडीए के बने लॉकर में रखवाने का निर्णय लिया है। जिससे प्रवेश द्वार पर अनावश्यक जांच से बचा जा सके। वहीं महिला सैलानियों के बैग को स्मारक परिसर में ही बने लॉकर में रखने की अनुमति दे दी है। स्मारक परिसर के बाहर लॉकर में बैग रखे जाने के संबंध में सीआईएसएफ ने एसएसपी और एडीए उपाध्यक्ष को पत्र लिखकर सहयोग करने का अनुरोध किया है।

यमुनापार से भी होगी हर गतिविधि की निगरानी
ताजमहल के पीछे यमुनापार से भी हर गतिविधि पर नजर रखी जाएगी। इसके लिए रिवर पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है। मेहताब बाग की और तैनात एक बटालियन पीएसी को भी अलर्ट मोड पर रखा गया है। साथ ही सभी वॉच‌टावरों पर तीन शिफ्टों पर जवानों की तैनाती की गई है। ताजमहल के 500 मीटर के क्षेत्र में हर बेरीकेडिंग पर सघन चेकिंग शुरू करा दी गई है। हालांकि सीसीटीवी कैमरे अभी भी खराब हैं, जिसके कारण ताज सुरक्षा में तैनात पुलिस को ज्यादा अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं। 

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
22FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img