- Advertisements -spot_img

Sunday, November 27, 2022
spot_img

ट्रिपलएस की थीम पर आयोजित होगा 2025 का महाकुंभ, स्वच्छ, सुरक्षित और सुव्यवस्थित तय हुई थीम

प्रयागराज के संगम क्षेत्र स्थित आईट्रिपलसी के सभागार में गुरुवार को महाकुंभ-2025 की तैयारियों की समीक्षा के लिए शासन स्तर की शीर्ष स्तरीय बैठक हुई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में विभागों के प्रमुखों ने महाकुंभ 2025 के लिए 7800 करोड़ की 870 परियोजनाओं की प्रस्तुति दी। बैठक में महाकुंभ की थीम भी तय की गई। 2025 के लिए स्वच्छ, सुरक्षित और सुव्यवस्थित (ट्रिपलएस) महाकुंभ  थीम तय की गई है। 2019 में दिव्य और भव्य कुंभ थीम के साथ यह महा आयोजन संपन्न हुआ था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अफसरों को महाकुंभ-2025 में होने वाले बड़े कार्यों को शुरू करने के निर्देश दिए। ताकि समय रहते ही काम पूरा किया जा सके। 

महाकुंभ 2025 की दीर्घकालिक परियोजनाओं में संगम को अरैल और झूंसी से जोड़ने वाले रोप-वे का निर्माण कार्य शामिल है, कागजी प्रक्रिया पूरी कर अगले साल से निर्माण शुरू करने का निर्देश दिया गया। बैठक में रोपवे के लिए अरैल-संगम-उल्टा किला का रूट भी निर्धारित कर दिया गया। कर्जन ब्रिज पर म्यूजियम बनाने की मंजूरी भी दी गई। इसका काम भी औपचारिकताएं पूरी कर अगले साल से शुरू करने को कहा गया है। कुम्भ-2019 से पहले बालसन चौराहा पर भारद्वाज मुनि की विशाल प्रतिमा लगाई गई थी। अब 2025 से पूर्व भारद्वाज आश्रम का स्वरूप बदलेगा। 

श्रीकृष्ण जन्मस्थान-ईदगाह प्रकरण में सेवन रुल इलेवन पर कोर्ट में जारी है बहस, अगली सुनवाई 5 दिसंबर

मुख्यमंत्री ने भारद्वाज आश्रम को पहला गुरुकुल बताते हुए पौराणिक आश्रम बनाने का निर्देश दिया है। जरूरत पड़ने पर आस-पास की जमीन का अधिग्रहण करने को भी कहा गया है। महाकुंभ-2025 से पहले जिले में द्वादश माधव मंदिरों के साथ अन्य मंदिरों का जीर्णोद्धार भी किया जाएगा। दशाश्वमेध घाट को पक्का घाट बनाने की स्वीकृति भी बैठक में मिल गई। महाकुंभ 2025 के नजरिए से यह भी एक बड़ा काम होगा। 

पर्यावरण को साफ-सुथरा रखने के लिए महाकुंभ-2025 में संगम में पेट्रोल-डीजल की जगह पहली बार सीएनजी मोटर बोट चलाई जाएगी। मेला क्षेत्र में इलेक्ट्रिक बसों का संचालन भी किया जाएगा। 2025 में महा आयोजन से पहले हल्दिया-वाराणसी जल परिवहन सेवा को वाराणसी से बढ़ाकर प्रयागराज तक विस्तारित करने के लिए भी कहा गया है। मुख्यमंत्री ने जल परिवहन सेवा शुरू करने के लिए सर्वे और जमीन चिह्नित करने का काम शुरू करने का निर्देश दिया है। महाकुंभ में डुबकी लगाने वाले करोड़ों श्रद्धालुओं को शुद्ध जल उपलब्ध कराने के लिए बिजनौर से प्रयागराज तक सभी परियोजनाएं जल्द पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं।

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
22FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img