- Advertisements -spot_img

Monday, September 26, 2022
spot_img

गोरखपुर यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में मारपीट के बाद ताबड़तोड़ फायरिंग, कमरों में लगाई आग

गोरखपुर। गोरखपुर विश्वविद्यालय के छात्रावास में बुधवार को देर रात दो गुटों में मारपीट के बाद ताबड़तोड़ फायरिंग हुई। इस दौरान दो छात्रावास के एक-एक कमरों में बदमाशों ने आग भी लगा दी। बदमाशों ने दहशत फैलाने के लिए तीन राउंड फायरिंग की। एनसी हॉस्टल में कैंप कर रही पीएसी भी फायरिंग के बाद हरकत में आ गई। देर रात गोली चलने और आगजनी होने की सूचना पाते ही कैंट पुलिस के साथ एसपी सिटी कृष्ण कुमार विश्नोई मौके पर पहुंच गए थे। पुलिस ने इस मामले में वार्डेन की तहरीर पर हिमांशु सिंह और यशपाल सिंह के खिलाफ केस दर्ज किया है। आरोपियों के गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है।

जानकारी के मुताबिक, गोरखपुर विश्वविद्यालय के हिमांशु सिंह और यशपल सिंह छात्रसंघ चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं। दोनों छात्रावास के कमरों में कब्जा करके रहते हैं। आए दिन इनके बीच टकराव होता रहता है। बुधवार देर रात किसी बात को लेकर दोनों में विवाद हो गया और फिर देखते ही देखते मारपीट हो गई। दोनों पक्षों के समर्थक जुटने शुरू हो गए। एक पक्ष ने नाथ चन्द्रावत छात्रावास के गेट के अंदर घुसते ही फायरिंग शुरू कर दी। गोलियों की तड़तड़ाहट से वहां मौजूद छात्रावासी सहम गए और अपने-अपने कमरे का फाटक अंदर से बंद कर लिया। अंधेरा होने के कारण अचानक घुसकर फायरिंग करने वालों की संख्या का पता नहीं चला पा रहा था।

फायरिंग के बाद नारेबाजी करते हुए एक पक्ष के लोग छात्रावास के सेकंड फ्लोर पर स्थित कमरा नंबर 131 में गए। कमरा तोड़कर उसमें आग लगा दी। मनबढ़ों के जाने के बाद आग पर काबू पाया गया। गुरुवार की सुबह यह कमरा बंद कर दिया गया। जबकि उसका जला हुआ कुछ सामान बाहर ही पड़ा रहा। इसी दौरान संत कबीर छात्रावास के फर्स्ट फ्लोर पर स्थित कमरा नंबर 61 में भी आग लगा दी गई। उसमें रखा फोल्डिंग बेड और अन्य सामान धू-धूकर जलने लगा। दोनों जगहों पर मिलाकर करीब एक घंटे तक बवाल चलता रहा।

ये भी पढ़ें: पति की सुरक्षा के लिए मांगा बंदूक का लाइसेंस नहीं मिला तो महिला ने कलेक्ट्रेट में पी लिया जहर

कमरा नंबर 77 के फाटक पर भी आग लगाकर जलाने की कोशिश के निशान मिले हैं। कमरा नंबर 61 के बाहर और नीचे भी काफी सामान फेंके हुए और अधजले हालत में मिले हैं। रात में घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस अधिकारियों के साथ ही विवि के कार्यवाहक मुख्य नियंता प्रो. शिवाकांत सिंह, अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. अजय सिंह भी मौके पर पहुंचे। वहां बहुत सारे छात्रावासी सहमे हुए थे। अधिकारियों ने छात्रावासियों को सुरक्षा का आश्वासन दिया। गुरुवार को केस दर्ज होने के बाद एसपी सिटी ने आरोपियों की तलाश के लिए टीम गठित कर दी है।

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
22FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img