- Advertisements -spot_img

Thursday, January 27, 2022
spot_img

कोरोना से चरमराए नेपाली पर्यटन में फूंकी जान, दूसरे देशों के सैलानियों ने मुंह मोड़ा तो भारतीयों की बढ़ी तादाद

कोरोना की विश्वव्यापी महामारी के बीच पिछले करीब दो साल में पर्यटन उद्योग भी संक्रमण काल से गुजरा। पाबंदियों के कारण लोगों ने विदेश यात्रा से खुद दूरी बनाई या फिर वे चाहते हुए भी जा नहीं पाए। दूसरी लहर के बाद हालात थोड़ा सुधरे तो पर्यटन ने भी उड़ान भरी। भारतीय पर्यटकों को प्राकृतिक सुंदरता से लबरेज नेपाल की वादियां खूब भायीं। दूसरे देशों के मुकाबले नये साल व अन्य अवसरों पर नेपाल जाने वाले पर्यटकों में भारतीयों की संख्या सर्वाधिक रही। एक तरह से चरमरा चुके नेपाल के पर्यटन उद्योग में भारतीयों ने जान फूंक दी।

बीते साल क्रिसमस बाद से ही नेपाल जाने के लिए भारतीय पर्यटकों का तांता लगा रहा। नये साल पर इसमें खासा इजाफा हुआ। एक आंकड़े के अनुसार नेपाल पहुंचे विदेशियों में 99 फीसदी संख्या भारतीय पर्यटकों की ही रही। कोरोना के फिर लौटने से सीमा पर सख्ती बढ़ी है मगर सैलानियों के नेपाल जाने का सिलसिला बना हुआ है। वेस्टर्न होटल एसोसिएशन (एचएएन) पोखरा के अध्यक्ष लक्ष्मण सुबेदी का कहना है कि कोरोना से ठप पड़ा पर्यटन बढ़ रहा है। भारत से अंग्रेजी नववर्ष में अच्छी संख्या में घरेलू पर्यटक पहुंच रहे हैं। रेस्टोरेंट एंड बार एसोसिएशन (रेवान) द्वारा आयोजित रोड फेस्टिवल के कारण नेपाल का पोखरा इस समय देशी-विदेशी पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। वह बताते हैं कि नये साल पर पोखरा के 80 फीसदी होटल भारतीय और नेपाली पर्यटकों से बुक रहे।

सीमा खुलने के बाद संख्या बढ़ी

नेपाल में लुम्बिनी भारतीयों का सर्वाधिक पसंदीदा जगह है। यहां 2019 में 2.60 लाख भारतीयों ने महामाया मंदिर के दर्शन किए।

लुम्बिनी में दूसरे देशों के सैलानी घटे, भारतीय बढ़े

नेपाल के प्रमुख पर्यटन स्थल लुम्बिनी में आने वाले अन्य देशों के पर्यटकों की संख्या में कमी आई है। वहीं भारतीय पर्यटकों में इजाफा हुआ है। कोरोना के कारण भारतीय स्थल मार्ग से विदेशियों के नेपाल जाने पर रोक के कारण वर्ष 2020 की तुलना में 2021 में सोनौली सीमा से लुम्बिनी जाने वाले पर्यटक रहे। 2021 में 68 देशों से 1,297 विदेशी पर्यटक लुम्बिनी गए। चिली से चार पर्यटक, चीन से 139 पर्यटक, अमेरिका से सबसे ज्यादा 140 पर्यटक, जर्मनी से 108, फ्रांस से 94 और रूस से 81 पर्यटक यहां पहुंचे थे। ईरान, इराक और लीबिया जैसे मुस्लिम देशों के पर्यटक भी गए। इसके अलावा मिस्र, इजराइल, जॉर्डन, लातविया, लिथुआनिया, हंगरी और दक्षिण अफ्रीका के सूडान, उत्तर कोरिया, कैमरून, लेबनान और कजाकिस्तान से भी पर्यटक पहुंचे।

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Related Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img

Stay Connected

563FansLike
0FollowersFollow
24FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img
- Advertisements -spot_img

Latest Articles

- Advertisements -spot_img
- Advertisements -spot_img